11.2 C
New York
April 13, 2024
fastival

Shradh Date 2023: 29 या 30 सितंबर कब से हैं पितृ पक्ष? जानें प्रतिपदा तिथि के श्राद्ध कर्म मुहूर्त

पितृ पक्ष

पितृ पक्ष, जो श्राद्ध पक्ष भी कहा जाता है, हिन्दू धर्म में पितृगणों की आत्मा को शांति देने के लिए मनाया जाने वाला महत्वपूर्ण त्योहार है। यह पक्ष पितृगणों की पूजा, श्राद्ध, और दान का समय होता है जो धार्मिकता और पारंपरिकता का प्रतीक है। पितृ पक्ष 2023 में कब होगा और प्रतिपदा तिथि के श्राद्ध कर्म मुहूर्त क्या होंगे, इस लेख में हम इस बारे में चर्चा करेंगे।

पितृ पक्ष के दिनांक 2023

पितृ पक्ष का आयोजन हिन्दू पंचांग के आधार पर होता है, और यह प्रत्येक वर्ष आने वाले आश्विन मास के कृष्ण पक्ष के द्वादशी तिथि से पूर्णिमा तिथि तक के 16 दिनों के आयोजन में होता है। पितृ पक्ष 2023 की प्रारंभिक तिथि 29 सितंबर 2023 है, लेकिन जैसा कि हिन्दू पंचांग के अनुसार, इसकी प्रारंभिक तिथि प्रतिपदा तिथि से होती है।

प्रतिपदा तिथि के श्राद्ध कर्म मुहूर्त

प्रतिपदा तिथि पितृ पक्ष के आगमन का समय होता है और इसे पितृ पक्ष का प्रारंभ कहा जाता है। इस दिन पितृगणों की पूजा और श्राद्ध कर्म का आयोजन किया जाता है। प्रतिपदा तिथि के श्राद्ध कर्म मुहूर्त निम्नलिखित हो सकते हैं:

प्रतिपदा तिथि का आरंभ: 29 सितंबर 2023, शुक्रवार

प्रतिपदा तिथि का समाप्ति: 30 सितंबर 2023, शनिवार

पितृ पक्ष में क्यों होते हैं श्राद्ध?

पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म का आयोजन करने का मुख्य उद्देश्य पितृगणों की आत्मा को शांति देना होता है। हिन्दू धर्म में माना जाता है कि अपने पितृगणों की आत्माएं पितृलोक में रहती हैं और उनके आशीर्वाद के बिना जीवन में सुख और समृद्धि नहीं हो सकती।

इसलिए, पितृ पक्ष के दौरान लोग अपने पितृगणों के लिए श्राद्ध कर्म करते हैं, जिसमें पितृगणों की पूजा, तर्पण, और दान किया जाता है। यह कर्म उनके आत्माओं को शांति देने का माध्यम होता है और उनके पुण्य को धर्मिक रूप से स्वीकार किया जाता है।

कैसे करें श्राद्ध कर्म?

श्राद्ध कर्म को ध्यानपूर्वक और सावधानी से करना चाहिए। यहां कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जो आपको इस कर्म को करने में मदद करेंगी:

उपयुक्त मुहूर्त का चयन: श्राद्ध कर्म का सही मुहूर्त चुनना महत्वपूर्ण है। प्रतिपदा तिथि के श्राद्ध कर्म का मुहूर्त सुबह या दोपहर में हो सकता है।

उपयुक्त स्थान का चयन: श्राद्ध कर्म को उपयुक्त स्थान पर करना चाहिए, जैसे कि गंगा किनारे, काशी, या गया।

श्राद्ध कर्म की उपयुक्त सामग्री: श्राद्ध कर्म के लिए उपयुक्त सामग्री जैसे कि अक्षत, तिल, कुश घास, देवी पूजन के सामग्री, और दान की चीजें तैयार करें।

भक्ति और समर्पण: श्राद्ध कर्म को भक्ति और समर्पण भाव से करें। पितृगणों के प्रति आपकी भक्ति से ही श्राद्ध कर्म सफल होता है।

पंडित की सलाह: अगर आपको श्राद्ध कर्म करने का सही तरीका नहीं पता है, तो किसी अनुभवी पंडित की सलाह लें।

समापन

पितृ पक्ष एक महत्वपूर्ण पारंपरिक त्योहार है जो हमारे पूर्वजों की यादों को जिन्दा रखता है और पितृगणों को शांति देने का माध्यम होता है। पितृ पक्ष 2023 की प्रारंभिक तिथि 29 सितंबर है, जिसे प्रतिपदा तिथि के श्राद्ध कर्म से आगाज़ किया जाता है। इस समय को ध्यान में रखते हुए, हमें अपने पितृगणों के प्रति भक्ति और समर्पण से इस त्योहार को मनाना चाहिए। इससे हम उनकी आत्माओं को शांति दिला सकते हैं और उनके पुण्य को समर्पित कर सकते हैं।

 

 

Leave a Comment